News

महाशिवरात्री के अवसर पर शिवसंदेश सायकल यात्रा का आयोजन

धमतरी। प्रजापिता ब्रम्हाकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय, धमतरी के तत्वाधान में 84वीं त्रिमूर्ति शिव जयंती के पूर्व दिनांक 20 फरवरी को प्रातः दिव्यधाम सेवाकेन्द्र पर शिवसंदेश सायकल यात्रा का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्री बी.पी. राजभानू, पुलिस अधिक्षक धमतरी, श्री सुरजीत नवदीप साहित्यकार, श्रीमती सरीता दोशी, समाजसेवी, श्री आनंद पवार, समाजसेवी एवं ब्रह्माकुमारी सरीता दीदी उपस्थित थे जिनके द्वारा झंडा दिखाकर सायकल यात्रा का शुभारंभ किया गया।
इस अवसर ब्रह्माकुमारी सरीता दीदी ने कहा कि महाशिवरात्री परमात्मा के अवतरण का यादगार त्यौहार है। ईश्वर जिसे सर्वधर्म की आत्माओ ने भिन्न भिन्न नाम से पुकारा है याद किया है परमात्मा शिव को ही ज्योतिलिंग, प्रकाश स्वरूप, दिव्य ज्योति, एक ओकार निराकार, अमरनाथ , विश्वनाथ कहकर याद किया है। सारे संसार में जब पापाचार, भष्टाचार, दुराचार, का बोल बाला हो जाता है संसार अज्ञानता के अंधेरे मे डूब जाता है तब इस अज्ञानता रूपी अंधकार से मनुष्यात्मा को बाहर निकालने के लिए परमात्मा शिव इस धरा पर अवतरित होते है। हम सबके परमपिता वह परमात्मा शिव इस धरा पर अवतरित हो चुके है इसी शुभ संदेश को देने के लिए यह सायकल यात्रा का आयोजन किया गया है। प्रदूषण मुक्त वातावरण एवं स्वस्थ समाज आज की सबसे बडी आवश्यकता है। सायकल वह साधन है जो वातावरण को साफ और स्वास्थ्य को अच्छा बनाता है।
श्री बी.पी. राजभानु जी ने कहा कि इस प्रकार के आयोजनो से समाज को अच्छी प्रेरण प्राप्त होती है।
श्री सुरजीत नवदीप जी ने कहा कि जन जागृति के अभियान जितना ब्रह्माकुमारी बहनो द्वारा चलाया जाता है उतना किसी ने नही चलाया है। सायकल प्रेरणा देती है निरंतर चलने का गति चाहे धीमा हो लेकिन थमना नही चाहिए।
श्री आनंद पवार जी ने कहा कि शिवरात्री आपसी प्रेम और सद्भावना का पर्व है वर्तमान समय समाज को सबसे अधिक इसी प्रेम और सद्भावना की आवश्यकता है।
श्रीमती सरीता दोशी जी ने कहा कि ब्रह्माकुमारी बहनो के द्वारा आयोजित यह कार्य प्रेरणादायी और प्रशंषनीय है।
कार्यक्रम का संचालन श्रीमती कामनी कौशिक जी ने किया