News

अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला संगोष्ठी का आयोजन

स्वंय के स्वास्थय के प्रति जागरूक रहना अति आवश्यक – सरिता दीदी

धमतरी(07-03-2020)। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, धमतरी के तत्वाधान में अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस के पूर्वसंध्यां में संस्कार, स्वास्थ्य और स्वच्छता की रक्षक – नारी विषय पर महिला संगोष्ठी का आयोजन ब्रह्माकुमारीज़ दिव्यधाम धमतरी में संध्या 4 बजे किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि श्रीमती गुजां साहू, अध्यक्ष जनपद पंचायत धमतरी, श्रीमती संगीता अग्रवाल, योग एवं संगीत प्रशिक्षक धमतरी, श्रीमती सुशीला तिवारी, पार्षद विवेकानंद वार्ड धमतरी मुख्य वक्ता ब्रह्माकुमारी सरस बहन राजयोग शिक्षिका धमतरी, एवं ब्रह्माकुमारी सरिता दीदी निदेशिका ब्रह्माकुमारीज धमतरी रही।
इस अवसर पर ब्रह्माकुमारी सरिता दीदी ने कहा कि ईश्वर की प्रथम रचना नारी हैं। सृष्टि की रचना में ईश्वर ने नारी को रचना और पालना करने वाली का स्थान दिया है जो और किसी को नही दिया है। मानवीय संबधो में भी पहला संबध मां का आता है परमात्मा में भी मां समाया हुआ है। परिवार में संस्कार देने की जिम्मेवारी मां की होती है। वर्तमान समय स्वंय के स्वास्थय के प्रति जागरूक रहना अति आवश्यक है इसके लिए अलग से समय देने की आवश्यकता नहीं अच्छा भोजन, अच्छी नींद, नियमित व्यायाम हमें कई प्रकार के स्वास्थय संबधी समस्याओ से बचा सकता है। आध्यात्मिकता हमें आंतरिक स्वच्छता और सुन्दरता प्रदान करता है। आध्यात्म हमें अपनी जिम्मेवारीयों को पूर्ण निष्ठा, ईमानदारी से करने की उर्जा प्रदान करता है। ब्रह्माकुमारीज में प्रथम अध्याय ही आत्मा का सीखाया जाता है जिससे जीवन में रूहानियत आती है दृष्टि वृत्ति पवित्र बनती है। समभाव, सहयोग की भावना आती है। वर्तमान समय पचास हजार से भी अधिक ब्रह्माकुमारी बहने समर्पित रूप से विश्वभर में अपनी सेवाएॅ प्रदान कर नारी का गौरव बढ़ा रही है।
ब्रह्माकुमारी सरस बहन ने कहा कि हर नारी श्रृगांर पसंद है लेकिन अभी शारिरीक श्रृगार पर ही सारा ध्यान होने के कारण हमारी आतंरिक स्वच्छता, सुन्दरता कही छिप गई है। आंतरिक श्रृंगार यानि हमारे विचार, दृष्टिकोण को सजाना और श्रेष्ठ बनाना। कम्पीटीशन और कम्पेरिजन की दौड़ और भौतिक साधन, पद, प्रतिष्ठा की लालच में नारी का आंतरिक सौन्दर्य खो गया है। वर्तमान समय समाज के सामने कन्या भ्रूण हत्या रोकना सबसे बड़ी चुनौती है जिसके लिए हम सभी को संगठित रूप से प्रयास करना होगा।
श्रीमती गुंजा साहू ने कहा कि हमें पूर्ण स्वच्छता, ईमानदारी, और साहस के साथ अपना कर्म करते रहना चाहिए ।
श्रीमती संगीता अग्रवाल ने कहा कि पुरूष वर्ग हमारी प्रतिद्वन्दी या विरोधी नही लेकिन सहयोगी है। विश्व मंच पर आगे बढ़ना है तो विघ्नो और विरोधीयों का तो सामना करना ही पडे़गा। हमें अपनी श्रेष्ठता साबित करने के लिए किसी बडे मंच या बडे़ संगठन अथवा शासन के सहारे की जरूरत नहीं है प्रत्येक नारी अपने घर परिवार से ही नारी सशक्तिकरण की शुरूआत कर सकती है।
श्रीमती सुशीला तिवारी ने कहा कि ऐसा नहीं की आज की महिला ज्यादा सशक्त है पहले की नहीं थी लेकिन आप प्राचीन इतिहास वेद पुराण देख लो जितना त्याग और बलिदान पूर्व की माताओं बहनों ने किया उतना किसी ने भी नही किया और ना ही कर सकते है। जहां नारी की पूजा होती है वह स्थान स्वर्ग है यह बात पुरानी है लेकिन आज भी उतनी ही सत्य है और प्रमाणित है।
इस अवसर पर लायंस क्लब धमतरी, महिला समाज धमतरी एवं इन्हरव्हील क्लब धमतरी द्वारा सरिता दीदी का सम्मान किया गया। आए हुए अतिथियों को ईश्वरीय सौगात प्रदान कर सम्मान किया गया। ब्रह्माकुमारीज़ धमतरी द्वारा दिव्यांग कन्या चंचल सोनी (एडजेक्ट संस्था धमतरी) का सम्मान किया गया। साथ ही दिव्यांग कन्या चंचल सोनी द्वारा नृत्य प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम का संचालन ब्र.कु. जागृति बहन ने किया। ब्र.कु. नवनीता बहन ने नारी सम्मान पर आधारित गीत सुनाया। ज्ञात हो कि 11 से 17 मार्च 2020 तक प्रातः 7 से 8 एवं संध्या 7 से 8 बजे तक सात दिवसीय महिला सशक्तिकरण शिविर का आयोजन ब्रह्माकुमारीज़ दिव्यधाम धमतरी में किया गया है।