Blog

तीन दिवसीय मधुर मधुमेह एक समग्र स्वास्थय शिक्षा कैम्प का शुभारंभ – Madhur Madhumeh Inauguration Programme

Brahma Kumaris

तीन दिवसीय मधुर मधुमेह एक समग्र स्वास्थय शिक्षा कैम्प का शुभारंभ

     प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय, धमतरी के द्वारा दिव्यधाम सिविल लाईन सेवाकेन्द पर मधुमेह के रोगियों के लिए एक समग्र स्वास्थ्य शिक्षा कैम्प ‘मधुर मधुमेह‘ का शुभारंभ किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि डाॅ. वत्सलन नायर, मधुमेह रोग विशेषज्ञ, मेडिकल विंग माउंट आबू राजस्थान, श्री हर्षद मेहता, पूर्व विधायक धमतरी, डा. उत्तम कुमार कौशिक, नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ जिला अस्पताल धमतरी, डा. के.एल.चंद्राकर, आयुर्वेदिक चिकित्सक, डा. विरन्दर नन्दा, चिकित्सक धमतरी एवं ब्रह्माकुमारी सरिता बहन जी संचालिका दिव्यधाम सेवाकेन्द्र उपस्थित हुए।
इस अवसर पर माउंट आबू से पधारे मधुमेह रोग विशेषज्ञ डा. वत्सलन नायर ने कहा कि जिस तेजी से भारत में मधुमेह रोग फैल रहा उससे ऐसा लगता है कि भारत मधुमेह की राजधानी बनता जा रहा है। हमें इसे गंभीरता से लेते हुए इसके प्रति लोगो में जागरूता लाने आवश्यकता है। मधुर महुमेह कार्यक्रम के विषय में बताते हुए उन्होने कहा कि यह कार्यक्रम विशेष मधुमेह के रोगियो के लिए तैयार किया गया है। जिसमें केवल जीवनशैली को संयमित एवं नियमित करे दिनचर्या, खान-पान में कुछ बातो का ध्यान रखे तो हम मधुमेह को नियंत्रित कर सकते है। इसके अलावा राजयोग का विशेष अभ्यास कराया जाता है। हमारा कार्य केवल विधि बताने तक ही सीमित है सार कार्य आत्मबल और परमात्म  शक्ति के प्रयोग से यह सम्पन्न किया जाता है। शुगर यदि आपके नियंत्रण मे है तो वह कभी नुकसान नही पहुचाएगा। अनियंत्रित शुगर से शरीर को नुकसान होता है। सारे भारत में अनेक राज्यो में यह मधुर मधुमेह के कार्यक्रम का सफल आयोजन किया जा चुका है। हर स्थान पर इसके सकारात्मक और उत्साहजनक परिणाम आए है। इस कार्यक्रम में दवाईयां इत्यादि बंद नही की जाती केवल शुगर नियंत्रण किया जाता हैं, मरीज अपने डा. से सलाह लेकर दवाईयां ले सकता है।
इसी क्रम में हर्षद मेहता, पूर्व विधायक धमतरी ने अपने संबोधन मेे कहा कि ब्रह्माकुमारीज सदा ही विभिन्न विषयो पर लोक कल्याण के कार्य करती आ रही है। मधुमेह को राज-रोग के नाम से भी जाना जाता है। वर्तमान समय इस भागदौड के जीवन में मनुष्य इस प्रकार उलझ गया है कि वह स्वंय के लिए समय ही नही दे पा रहा है, उसकी दिनचर्या खानपान सब बिगड चुका है। जो रोगों का कारण बनता है। मै स्वंय इस प्रकार के अव्यवस्थित दिनचर्या के नुकसान को अपने जीवन में अनुभव किया। विशेषज्ञो की सलाह से जब मैन अपने रहन सहन जीवनशैली को नियत्रित किया तब स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हुआ।
इसी तरह डा. वरिन्दर नन्दा ने कहा कि मधुमेह रोग को साइलेन्ट किलर कहा जाता है। इसके मरीज धमतरी शहर में भी बढते जा रहे है। कई बिमारीयों का कारण कमजोर मनोशक्ति का होना होता है। उंचा मनोबल, परमात्म शकित, आहार – विहार – विचार और संयमित दिनचर्या का लाभ निश्चित ही प्राप्त होता है।
इसी तरह ब्रह्माकुमारी सरिता बहन जी ने कहा कि जीवन मे ंस्वाद और स्वास्थ्य का संतुलन अतिआवश्यक है कई चीजे ऐसी होती है जो स्वाद में अच्छी होती है लेकिन स्वास्थ्य के दृष्टि से ठीक नही होती। वर्ममान समय लोगो ने स्वाद को महत्व दिया जिस कारण अस्वस्थता बढती जा रही है। यह स्वास्थ्य कैम्प 06 अगस्त से 08 अगस्त तक प्रतिदिन प्रातः 06ः30 बजे से संध्या 05ः30 बजे तक चलेगा जिसमें मधुमेह रोगियो के लिए स्वास्थय जांच के साथ साथ आहार, व्यायाम, मधुमेह संबधी जानकारी एवं आध्यात्मिक ज्ञान भी विभिन्न सत्रो में प्रदान किया जावेगा। शिविर में भाग लेने वालो को तीनो दिन नियमित रूप से आना अनिवार्य है तभी इसका लाभ आपको अनुभव हो सकेगा। कार्यक्रम का संचालन ब्र.कु. जागृति बहन ने किया।